Sunday, November 20, 2016

36 - शेखावत या शेखावत सूर्यवंशी कछवाह

शेखावत या शेखावत सूर्यवंशी कछवाह
राजपूत - सूर्य वंश - कछवाह - शाखा - शेखावत कछवाह

शेखावत -  शेखा जी  के वंशज शेखावत कहलाते हैँ। शेखा जी को महाराव की उपाधि थी इसलिए महाराव शेखा जी के नाम से जानें जाते थे, महाराव  शेखा जी राव मोकल जी के पुत्र व बाला जी के पौत्र थे। महाराव शेखा जी के दादाजी आमेर के राजा उदयकरण जी के तिसरे पुत्र थे। 
[दो शब्द  - कछवाहों और शेखावतों का पूरा इतिहास जानने से पहले यह भी जान ले कि कछवाहों की मूल रूप से केवल 35 ही शाखाये ही हैं, बाकि शेखावतों में हैं कुछ लोग अधूरे ज्ञान के कारण इनको मिलकर खिचड़ी बनाकर लिख देते है जिस के कारन जिज्ञासु भर्मीत हो जाता है और वो कछवाह और शेखावतों के बीच में जो थोड़ा बहुत जो फासला (अंतर) है उसको वो नहीं समझ पाता है। कछवाह बहुत ही विस्तारित एक सम्पूर्ण वंस है जबकि शेखावत कछवाहों कि एक शाखा है जो राजस्थान में ही प्रफुलित हुयी। 36 वीं शाखा से शेखावतों कि शाखा शुरू होकर आगे चलकर अनेक उपशाखाओं 
व खाँपों  में विभाजित होकर एक विशाल वट वृक्ष जाता है।] 
महाराव शेखा जी के दादाजी आमेर के राजा उदयकरण जी के तिसरे पुत्र थे।राव शेखा जी के पुत्र राव सूजा जी और जगमल जी ने सन् 1503 के लगभग बान्सूर प्रदेश पर अपना प्रभुत्व स्थापित किया। सूजा जी ने बसई को अपनी राजधानी बनाया और जगमाल जी हाजीपुर चले गए। सन् 1537 में सूजा जी का देहावसान हो गया और राव सूजा जी के पुत्र लूणकर्ण जी, रायसल जी, चाँदा जी और भरूँजी   बड़े प्रतापी और वीर हुए थे। शेखावटी के खेतडी, खण्डेला, सीकर, शाहपुरा आदि नगरोँ में लूणकर्ण और रायसल बसई में अब तक खण्डहर पड़ा हुआ है।

शेखावत कछवाहोँ का पीढी क्रम इस प्रकार है -: 
शेखा जी - राव मोकल जी - बाला जी - उदयकरण जी - जुणसी जी (जुणसी, जानसी, जुणसीदेव जी, जसीदेव) - जी - कुन्तलदेव जी – किलहन देवजी (कील्हणदेव,खिलन्देव) - राज देवजी - राव बयालजी (बालोजी) - मलैसी देव - पुजना देव (पाजून, पज्जूणा) – जान्ददेव - हुन देव - कांकल देव - दुलहराय जी (ढोलाराय) - सोढ देव (सोरा सिंह) - इश्वरदास (ईशदेव जी)
ख्यात अनुसार शेखावत कछवाहोँ का पीढी क्रम ईस प्रकार है –: 

01 - भगवान श्री राम - भगवान श्री राम के बाद कछवाहा (कछवाह) क्षत्रिय राजपूत राजवंश का इतिहास इस प्रकार भगवान श्री राम का जन्म ब्रह्माजी की 67वीँ पिढी मेँ और ब्रह्माजी की 68वीँ पिढी मेँ लव व कुश का जन्म हुआ। भगवान श्री राम के दो पुत्र थे –
              01 - लव
              02 - कुश
रामायण कालीन महर्षि वाल्मिकी की महान धरा एवं माता सीता के पुत्र लव-कुश का जन्म स्थल कहे जाने वाला धार्मिक स्थल तुरतुरिया है। - लव और कुश राम तथा सीता के जुड़वां बेटे थे। जब राम ने वानप्रस्थ लेने का निश्चय कर भरत का राज्याभिषेक करना चाहा तो भरत नहीं माने। अत: दक्षिण कोसल प्रदेश (छत्तीसगढ़) में कुश और उत्तर कोसल में लव का अभिषेक किया गया।
- राम के काल में भी कोशल राज्य उत्तर कोशल और दक्षिण कोशल में विभाजित था। कालिदास के रघुवंश अनुसार राम ने अपने पुत्र लव को शरावती का और कुश को कुशावती का राज्य दिया था। शरावती को श्रावस्ती मानें तो निश्चय ही लव का राज्य उत्तर भारत में था और कुश का राज्य दक्षिण कोसल में। कुश की राजधानी कुशावती आज के बिलासपुर जिले में थी। कोसला को राम की माता कौशल्या की जन्म भूमि माना जाता है।- रघुवंश के अनुसार कुश को अयोध्या जाने के लिए विंध्याचल को पार करना पड़ता था इससे भी सिद्ध होता है कि उनका राज्य दक्षिण कोसल में ही था। राजा लव से राघव राजपूतों का जन्म हुआ जिनमें बर्गुजर, जयास और सिकरवारों का वंश चला। इसकी दूसरी शाखा थी सिसोदिया राजपूत वंश की जिनमें बैछला (बैसला) और गैहलोत (गुहिल) वंश के राजा हुए। कुश से कुशवाह (कछवाह) राजपूतों का वंश चला। ऐतिहासिक तथ्यों के अनुसार लव ने लाहौर की स्थापना की थी, जो वर्तमान में पाकिस्तान स्थित शहर लाहौर है। यहां के एक किले में लव का एक मंदिर भी बना हुआ है। लवपुरी को बाद में लौहपुरी कहा जाने लगा। दक्षिण-पूर्व एशियाई देश लाओस, थाई नगर लोबपुरी, दोनों ही उनके नाम पर रखे गए स्थान हैं। राम के दोनों पुत्रों में कुश का वंश आगे बढ़ा ।
02 – कुश - भगवान श्री राम के पुत्र लव, कुश हुये।
03 - अतिथि - कुश के पुत्र अतिथि हुये।
04 - वीरसेन (निषध) - वीरसेन जो कि निषध देश के एक राजा थे। भारशिव राजाओं में वीरसेन सबसे प्रसिद्ध राजा था। कुषाणों को परास्त करके अश्वमेध यज्ञों का सम्पादन उसी ने किया था। ध्रुवसंधि की 2 रानियाँ थीं। पहली पत्नी महारानी मनोरमा कलिंग के राजा वीरसेन की पुत्री थी । वीरसेन (निषध) के एक पुत्री व दो पुत्र हुए थे:-
            
             01- मदनसेन (मदनादित्य) – (निषध देश के राजा वीरसेन का पुत्र) सुकेत के 22 वेँ शासक राजा मदनसेन ने बल्ह के लोहारा नामक स्थान मे सुकेत की राजधानी स्थापित की। राजा मदनसेन के पुत्र हुए कमसेन जिनके नाम पर कामाख्या नगरी का नाम कामावती पुरी रखा गया।
             02 - राजा नल - (निषध देश के राजा वीरसेन का पुत्र) निषध देश पुराणानुसार एक देश का प्राचीन नाम जो विन्ध्याचल पर्वत पर स्थित था।
             03 - मनोरमा (पुत्री) - अयोध्या में भगवान राम से कुछ पीढ़ियों बाद ध्रुवसंधि नामक राजा हुए । उनकी दो स्त्रियां थीं । पट्टमहिषी थी कलिंगराज वीरसेन की पुत्री मनोरमा और छोटी रानी थी उज्जयिनी नरेश युधाजित की पुत्री लीलावती । मनोरमा के पुत्र हुए सुदर्शन और लीलावती के शत्रुजित ।माठर वंश के बाद कलिंग में नल वंश का शासन आरम्भ हो गया था। माठर वंश के बाद500 ई० में नल वंश का शासन आरम्भ हो गया। वर्तमान उड़ीसा राज्य को प्राचीन काल से मध्यकाल तक ओडिशा राज्य , कलिंग, उत्कल, उत्करात, ओड्र, ओद्र, ओड्रदेश, ओड, ओड्रराष्ट्र, त्रिकलिंग, दक्षिण कोशल, कंगोद, तोषाली, छेदि तथा मत्स आदि भी नामों से जाना जाता था। नल वंश के दौरान भगवान विष्णु को अधिक पूजा जाता था इसलिए नल वंश के राजा व विष्णुपूजक स्कन्दवर्मन ने ओडिशा में पोडागोड़ा स्थान पर विष्णुविहार का निर्माण करवाया। नल वंश के बाद विग्रह वंश, मुदगल वंश, शैलोद्भव वंश और भौमकर वंश ने कलिंग पर राज्य किया।

05 - राजा नल - (राजा वीरसेन का पुत्र राजा नल) निषध देश के राजा वीरसेन के पुत्र, राजा नल का विवाह विदर्भ देश के राजा भीमसेन की पुत्री दमयंती के साथ हुआ था। नल-दमयंती - विदर्भ देश के राजा भीम की पुत्री दमयंती और निषध के राजा वीरसेन के पुत्र नल राजा नल स्वयं इक्ष्वाकु वंशीय थे। महाकांतार (प्राचीन बस्तर) जिसे मौर्य काल में स्वतंत्र आटविक जनपद क्षेत्र कहा गया इसे समकालीन कतिपय ग्रंथों में महावन भी उल्लेखित किया गया है। महाकांतार (प्राचीन बस्तर) क्षेत्र में अनेक नाम नल से जुडे हुए हैं जैसे - नलमपल्ली, नलगोंडा, नलवाड़, नलपावण्ड, नड़पल्ली, नीलवाया, नेलाकांकेर, नेलचेर, नेलसागर आदि।महाकांतार (प्राचीन बस्तर) क्षेत्र पर नलवंश के राजा व्याघ्रराज (350-400 ई.) की सत्ता का उल्लेख समुद्रगुप्त की प्रयाग प्रशास्ति से मिलता है। व्याघ्रराज के बाद, व्याघ्रराज के पुत्र वाराहराज (400-440 ई.) महाकांतार क्षेत्र के राजा हुए। वाराहराज का शासनकाल वाकाटकों से जूझता हुआ ही गुजरा। राजा नरेन्द्र सेन ने उन्हें अपनी तलवार को म्यान में रखने के कम ही मौके दिये। वाकाटकों ने इसी दौरान नलों पर एक बड़ी विजय हासिल करते हुए महाकांतार का कुछ क्षेत्र अपने अधिकार में ले लिया था। वाराहराज के बाद, वाराहराज के पुत्र भवदत्त वर्मन (400-440 ई.) महाकांतार क्षेत्र के राजा हुए। भवदत्त वर्मन के देहावसान के बाद के पश्चात उसका पुत्र अर्थपति भट्टारक (460-475 ई.) राजसिंहासन पर बैठे। अर्थपति की मृत्यु के पश्चात नलों को कडे संघर्ष से गुजरना पडा जिसकी कमान संभाली उनके भाई स्कंदवर्मन (475-500 ई.) नें जिसे विरासत में सियासत प्राप्त हुई थी। इस समय तक नलों की स्थिति क्षीण होने लगी थी जिसका लाभ उठाते हुए वाकाटक नरेश नरेन्द्रसेन नें पुन: महाकांतार क्षेत्र के बडे हिस्सों पर पाँव जमा लिये। नरेन्द्र सेन के पश्चात उसके पुत्र पृथ्वीषेण द्वितीय (460-480 ई.) नें भी नलों के साथ संघर्ष जारी रखा। अर्थपति भटटारक को नन्दिवर्धन छोडना पडा तथा वह नलों की पुरानी राजधानी पुष्करी लौट आया। स्कंदवर्मन ने शक्ति संचय किया तथा तत्कालीन वाकाटक शासक पृथ्वीषेण द्वितीय को परास्त कर नल शासन में पुन: प्राण प्रतिष्ठा की। स्कंदवर्मन ने नष्ट पुष्करी नगर को पुन: बसाया अल्पकाल में ही जो शक्ति व सामर्थ स्कन्दवर्मन नें एकत्रित कर लिया था उसने वाकाटकों के अस्तित्व को ही लगभग मिटा कर रख दिया । के बाद नल शासन व्यवस्था के आधीन कई माण्डलिक राजा थे। उनके पुत्र पृथ्वीव्याघ्र (740-765 ई.) नें राज्य विस्तार करते हुए नेल्लोर क्षेत्र के तटीय क्षेत्रों पर अधिकार कर लिया था। यह उल्लेख मिलता है कि उन्होंनें अपने समय में अश्वमेध यज्ञ भी किया। पृथ्वीव्याघ्र के पश्चात के शासक कौन थे इस पर अभी इतिहास का मौन नहीं टूट सका है। नल-दम्यंति के पुत्र-पुत्री इन्द्रसेना व इन्द्रसेन थे।
ब्रह्माजी की 71वीँ पिढी मेँ जन्में राजा नल से इतिहास में प्रसिद्ध क्षत्रिय सूर्यवंशी राजपूतों की एक अलग शाखा चली जो कछवाह के नाम से विख्यात है ।
06– ढोला - राजा नल-दमयंती का पुत्र ढोला जिसे इतिहास में साल्ह्कुमार के नाम से भी जाना जाता है का विवाह राजस्थान के जांगलू राज्य के पूंगल नामक ठिकाने की राजकुमारी मारवणी से हुआ था। जो राजस्थान के साहित्य में ढोला-मारू के नाम से प्रख्यात प्रेमगाथाओं के नायक है ।
07 – लक्ष्मण - ढोला के लक्ष्मण नामक पुत्र हुआ।-
08 - भानु - लक्ष्मण के भानु नामक पुत्र हुआ।
09 – बज्रदामा - भानु के बज्रदामा नामक पुत्र हुआ, भानु के पुत्र परम प्रतापी महाराजा धिराज बज्र्दामा हुवा जिस ने खोई हुई कछवाह राज्यलक्ष्मी का पुनः उद्धारकर ग्वालियर दुर्ग प्रतिहारों से पुनः जित लिया। 
10 - मंगल राज - बज्रदामा के मंगल राज नामक पुत्र हुआ। बज्र्दामा के पुत्र मंगल राज हुवा जिसने पंजाब के मैदान में महमूद गजनवी के विरुद्ध उतरी भारत के राजाओं के संघ के साथ युद्ध कर अपनी वीरता प्रदर्शित की थी। मंगल राज के मंगल राज के 2 पुत्र हुए:-
             01 - किर्तिराज (बड़ा पुत्र) - किर्तिराज को ग्वालियर का राज्य मिला था।
             02 - सुमित्र (छोटा पुत्र) - सुमित्र को नरवर का राज्य मिला था। नरवार किला, शिवपुरी के बाहरी इलाके में शहर से 42 किमी. की दूरी पर स्थित है जो काली नदी के पूर्व में स्थित है। नरवर शहर का ऐतिहासिक महत्व भी है और इसे 12 वीं सदी तक नालापुरा के नाम से जाना जाता था। इस महल का नाम राजा नल के नाम पर रखा गया है जिनके और दमयंती की प्रेमगाथाएं महाकाव्य महाभारत में पढ़ने को मिलती हैं। इस नरवर राज्य को ‘निषाद राज्य भी कहते थे, जहां राजा वीरसेन का शासन था। उनके ही पुत्र का नाम राजा नल था। राजा नल का विवाह दमयंती से हुआ था। बाद में चौपड़ के खेल में राजा नल ने अपनी सत्ता को ही दांव पर लगा दिया था और सब कुछ हार गए। इसके बाद उन्हें अपना राज्य छोड़कर निषाद देश से जाना पड़ा था। 12वीं शताब्दी के बाद नरवर पर क्रमश: कछवाहा, परिहार और तोमर राजपूतों का अधिकार रहा, जिसके बाद 16वीं शताब्दी में मुग़लों ने इस पर क़ब्ज़ा कर लिया। मान
सिंह तोमर (1486-1516 ई.) और मृगनयनी की प्रसिद्ध प्रेम कथा से नरवर का सम्बन्ध बताया जाता है।
11 - सुमित्र - मंगल राज का छोटा पुत्र सुमित्र था।
12 - ईशदेव 
जी - सुमित्र के ईशदेव नामक पुत्र हुआ। इश्वरदास (ईशदेव जी) 966 – 1006 ग्वालियर (मध्य प्रदेश) के शासक थे। 
13 - सोढदेव - इश्वरदास (ईशदेव जी) के सोढ देव (सोरा सिंह) नामक पुत्र हुआ
14 - दुलहराय जी (ढोलाराय) - सोढदेव जी के दुलहराय जी (ढोलाराय) नामक पुत्र हुआ । दुलहराय जी (ढोलाराय) (1006-36) आमेर (जयपुर) के शासक थे। दुलहराय जी (ढोलाराय) के 3 पुत्र हुये:-
                 01 - कॉकिलदेव (काँखल जी, कांकल देव) - (1036-38) आमेर (जयपुर) के शासक थे।
                 02 - डेलण जी
                 03 - वीकलदेव जी

15 - कॉकिलदेव (काँखल जी, कांकल देव) - कॉकिलदेव (काँखल जी, कांकल देव) - (1036-38) आमेर (जयपुर) के शासक थे। कॉकिलदेव (काँखल जी, कांकल देव) के पांच पुत्र हुए:-
                 01 - अलघराय जी
                 02 - गेलन जी
                 03 - रालण जी
                 04 - डेलण जी
                 05 - हुन देव 
16 - हुन देव - कांकल देव (काँखल देव) के हुन देव नामक पुत्र हुआ। हुन देव (1038-53) आमेर (जयपुर) के शासक थे ।
17 - जान्ददेव - हुन देव के जान्ददेव नामक पुत्र हुआ। जान्ददेव (1053 – 1070) आमेर (जयपुर) के शासक थे ।
18 – पंञ्जावन - जान्ददेव के पंञ्जावन (पुजना देव, पाजून, पज्जूणा) नामक पुत्र हुआ।
पंञ्जावन (पुजना देव,पाजून, पज्जूणा) (1070 – 1084) आमेर (जयपुर) के शासक थे।
19 - मलैसी देव - 
 राजा मलैसिंह देव  पंञ्जावन (पुंजदेव, पुजना देव, पाजून, पज्जूणा) का पुत्र था, तथा मलैसिंह दौसा का सातवाँ राजा था  मलैसी देव दौसा के बाद राजा मलैसिंह देव 1084 से 1146  तक आमेर (जयपुर) के शासक थे। भारतीय ईतीहास में मलैसी को मलैसी, मलैसीजी, मलैसिंहजी आदी नामों से भी जाना एंव पहचाना जाता है, मगर इन का असली नाम मलैसी देव था। जैसा कि सभी को मालुम है सुंन्दरता के वंश में होकर (मलैसीजी मलैसिंहजी) ने बहुतसी शादीयाँ करी थी। जिन में राजपूत खानदान से बाहर अन्य खानदान एंव अन्य जातीयों में करी थी इन सब की जानकारी बही भाटों की बही एंव समाज के बुजुर्गो की जुबान तो खुलकर बताती है मगर इतिहास के पन्ने इस विषय पर मौन हैं।
मलैसी देव के बहुत से पुत्र थे मगर हमें इनमें से सात का तो हर जगह ब्योरा मिल जाता है बाकी पर इतीहास अपनी चुपी नहीं तोड़ता है । मगर हम जागा और जातीगत ईतीहास लिखने वाले बही-भीटों की बही के प्रमाण एंव समाज के बुजुर्गो की जुबान पर जायें तो पता चलता है राजा मलैसी देव कि सन्तानोँ मेँ शुद् रजपुती खुन दो पुत्रोँ मेँ था राव बयालजी (बालोजी) व जैतलजी में। राव बयालजी (बालोजी) व जैतलजी के अलावा बकी पाँच ने कसी कारण वंश दूसरी जाती की लड़की से शादी की जीससे एक अलग- अलग जातीयाँ निकली। मलैसी देव ने राजपूत खानदान से बाहर अन्य खानदान एंव अन्य जातीयों में शादीयाँ करी थी इन सब अन्य जातीयों से पुत्र -:
              01 - तोलाजी - टाक दर्जी छींपा
              02 - बाघाजी - रावत बनिया
              03 - भाण जी - डाई गुजर
              04 - नरसी जी - निठारवाल जाट
              05 - रतना जी - सोली सुनार,आमेरा नाई
उपरोंक्त ये सभी
 पाँचो पुत्र अपने व्यवसाय में लग गये जिनकी आज राजपूतों से  एक अलग जाती बनगयी है
              06 - जैतल जी (जीतल जी) - जैतल जी (जीतल जी) (1146 – 1179) आमेर (जयपुर) के शासक थे ।
              07 - राव बयालदेव
20 - राव बयालदेव - राजा मलैसिंह देव के पुत्र  राव बयालदेव  
21 - राज देवजी - राव बयालदेव के पुत्र राज देवजी। राज देवजी (1179 – 1216) आमेर (जयपुर) के शासक थे। राजा राव बयालजी (बालोजी) का पुत्र राजा देव जी दौसा का नौँवा राजा बना जिसका कार्यकाल 1179-1216 तक। राजा देव जी के ग्यारह पुत्र थे -:
              01 - बीजलदेव जी
              02 - किलहनदेव जी
              03 - साँवतसिँह जी
              05 - सिहा जी
              06 - बिकसी [ बिकासिँह जी, बिकसिँह जी विक्रमसी ]
              07 - पाला जी (पिला जी)
              08 - भोजराज जी 
              09 - राजघरजी [राढरजी]
              
10 - दशरथ जी
              11 - राजा कुन्तलदेव जी
22 - कुन्तलदेव जी -  कुन्तलदेव जी 1276 से 1317 तक  आमेर (जयपुर) के शासक थे। राजा कुन्तलदेव जी के ग्यारह पुत्र थे -:
       01 - बधावा जी
              02 - हमीर जी (हम्मीर देव जी)
              03 - नापा जी
              04 - मेहपा जी 

              05 - सरवन जी
              06 - ट्यूनगया जी
              07 - सूजा जी
              08 - भडासी जी
              09 - जीतमल जी
              10 - खींवराज जी
              11 - जोणसी
23 - जोणसी - राजा जोणसी कुन्तलदेव जी के पुत्र थे, इन को को जुणसी जी, जुणसी, जानसी, जुणसी देव जी, जसीदेव आदि कई नामों से पुकारा जाता था, आमेर के 13 वें शासक राजा जुणसी देव के चार पुत्र थे -:
              01 - जसकरण जी
              02 - उदयकरण जी
              03 - कुम्भा जी
              04 - सिंघा जी
24 - उदयकरण जी उदयकरण जी [उदयकर्ण] - उदयकरण जी राजा जुणसी जी के दूसरे पुत्र थे। राजा उदयकरणजी आमेर के तीसरे राजा थे जिनका शासनकाल 1366 से 1388 में रहा है। राजा उदयकरणजी की म्रत्यु 1388 में हुयी थी । उदयकरजी की म्रत्यु 1388 में हुयी थी। उदयकरजी के आठ पुत्र थे :-
          01 - राव नारोसिंह [राजा नरसिंह, नाहरसिंह देवजी]
          02 - राव बरसिंह
          03 - राव बालाजी
          04 - राव शिवब्रह्म
          05 - राव पातालजी
          06 - राव पीपाजी
          07 - राव पीथलजी
          08 - राव नापाजी (राजाउदयकरणजी के आठवें पुत्र) 

25 - बाला जी - बाला जी आमेर के राजा उदयकरण जी के तिसरे पुत्र थे। 
26 - राव मोकल जी - राव मोकल जी बाला जी के पुत्र थे। 
27 - महाराव शेखा जी - महाराव  शेखा जी राव मोकल जी के पुत्र व बाला जी के पौत्र थे।
शेखा जी  के वंशज शेखावत कहलाते हैँ। शेखा जी को महाराव की उपाधि थी इसलिए महाराव शेखा जी के नाम से जानें जाते थे, महाराव  शेखा जी राव मोकल जी के पुत्र व बाला जी के पौत्र थे। महाराव शेखा जी के दादाजी आमेर के राजा उदयकरण जी के तिसरे पुत्र थे। 

शेखावत वंश की शाखाएँ -:
शेखावत सूर्यवंशी कछवाह क्षत्रिय वंश की एक शाखा है
शेखावत वंश परिचय-:
सम्पूर्ण कछवाह बिरादरी में सबसे प्रमुख खांप शेखावत है।
शेखावत सूर्यवंशी कछवाह क्षत्रिय वंश की एक शाखा है देशी राज्यों के भारतीय संघ में विलय से पूर्व मनोहरपुर, शाहपुरा, खंडेला, सीकर, खेतडी, बिसाऊ, सुरजगढ़, नवलगढ़, मंडावा, मुकन्दगढ़, दांता, खुड, खाचरियाबास, दूंद्लोद, अलसीसर, मलसिसर, रानोली आदि प्रभाव शाली ठिकाने शेखावतों के अधिकार में थे जो शेखावाटी नाम से प्रशिद्ध है । शेखावाटी के ठिकाने और जागीर :-

Alsisar अलसीसर
Khatu खाटू
Arooka अरूका
Khayali ख्याली
Bissau बिस्साऊ
Khetri खेतड़ी
Chowkari चोव्करी
Khood खूड
Danta दांता
Mahansar महनसर
Dujod दुजोद
Malsisar मलसीसर
Dundlod डूंडलोद
Mandawa मंडावा
Gangiasar गान्ग्यासर
Mandrella मंडरेला
Heerwa & Sigra हीरवा सिगरा
Mukangarh मुकंगढ़
Jahota जाहोता
Nawalgarh नवलगढ़
Kasli कासली
Shahpura शाहपुरा
Khachariawas खाचरियावास
Sikar सीकर
Khandela खंडेला


वर्तमान में शेखावाटी की भौगोलिक सीमाएं सीकर और झुंझुनू दो जिलों तक ही सीमित है । संयोगिता हरण के समय प्रथ्विराज का पीछा करती कन्नोज की विशाल सेना को रोकते हुए पज्वन राय जी ने वीर गति प्राप्त की थी आमेर नरेश पज्वन राय जी के बाद लगभग दो सो वर्षों बाद उनके वंशजों में वि.सं. 1423 में राजा उदयकरण आमेर के राजा बने, राजा उदयकरण के पुत्रो से कछवाहों की उदयकरण जी के तीसरे पुत्र बालाजी जिन्हें बरवाडा की 12 गावों की जागीर मिली शेखावतों के आदि पुरुष थे ।
बालाजी के पुत्र मोकलजी हुए और मोकलजी के पुत्र महान योधा शेखावाटी व शेखावत वंश के प्रवर्तक महाराव शेखा का जनम वि.सं. 1490 में हुवा । वि. सं. 1502 में मोकलजी के निधन के बाद राव शेखाजी बरवाडा व नान के 24 गावों के स्वामी बने। महाराव शेखा खुद 1471 में स्वतंत्र घोषित कर दिया और उसके वंश के लिए एक अलग रियासत की स्थापना की।
राव शेखाजी ने अपने साहस वीरता व सेनिक संगठन से अपने आस पास के गावों पर धावे मारकर अपने छोटे से राज्य को 360 गावों के राज्य में बदल दिया । राव शेखाजी ने नान के पास अमरसर बसा कर उसे अपनी राजधानी बनाया और शिखर गढ़ का निर्माण किया राव शेखाजी के वंशज उनके नाम पर शेखावत कहलाये शेखावत वंश की शाखाएँ, शेखा जी पुत्रो व वंशजो के कई शाखाओं का प्रदुर्भाव हुआ जो निम्न है :-
महाराव शेखाजी के बेटों से शेखावतों की शाखाएँ-

महाराव शेखा जी के बारह बेटे थे। जिन में से तीन बेटे भरतजी, तिलोकजी [त्रिलोकजी],प्रतापजी निसंतान थे। बाकि नौ बेटों से पांच शाखाएँ चली जो इस प्रकार है -
:
01 - टकनेत शेखावत – 
दुर्गाजी के वंशज टकनेत शेखावत कहलाते हैं।
दुर्गाजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
02 - रतनावत शेखावत –
रतनाजी के वंशज रतनावत शेखावत कहलाते हैं।
रतनाजी – शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी

[ध्यान रहे … यह कछवाहोँ की उप शाखा रतनावत नरुका, रतनावत शेखावत खांप से बिलकुल अलग है।] 
रतनावत कछवाह  व रतनावत शेखावत में भेद या अन्तर?
कुछ लोग रतनावत कछवाह व रतनावत शेखावत को एक ही समझ लेतें हैं क्यों की दोनों में पीढ़ी व वसाजों का नाम संयोग से एक जैसा ही है जिसमे भेद इस प्रकार है - 
उदयकरण जी [उदयकर्ण] - उदयकरण जी राजा जुणसी जी के दूसरे पुत्र थे। राजा उदयकरणजी आमेर के तीसरे राजा थे जिनका शासनकाल 1366 से 1388 में रहा है। राजा उदयकरणजी की म्रत्यु 1388 में हुयी थी । उदयकरजी की म्रत्यु 1388 में हुयी थी। उदयकरजी के आठ पुत्र थे :-
          01 - राव नारोसिंह [राजा नरसिंह, नाहरसिंह देवजी]
          02 - राव बरसिंह 
                        *मेराज जी (मेहराज) 
                                     *नरुजी - दासासिंह (दासा) -
                                               *रतनसिंह (रतनजी) 
[रतनसिंह (रतन जी) के वंसज रतनावत कछवाह कहतें हैं, जो नरुका  
 कछवाह की ही उप शाखा है। ]
          03 - राव बालाजी - 
                          *राव मोकलजी 
                                   *शेखाजी   
                                             *रतनाजी [रतनाजी के वंसज रतनावत शेखावत] 
          04 - राव शिवब्रह्म
          05 - राव पातालजी
          06 - राव पीपाजी
          07 - राव पीथलजी
          08 - राव नापाजी (राजाउदयकरणजी के आठवें पुत्र) 
रतनावत शेखावत [रतनाजी के वंशज रतनावत शेखावत कहलाते हैं।
रतनाजी – शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी ]

रतनावत कछवाह [  रतनसिंह (रतन जी) के वंशज रतनावत कछवाह कहलाते हैं।]
रतनसिंह (रतन जी) - दासासिंह (दासा) - नरु जी - मेराज जी (मेहराज) - बरसिँह जी (बरसिँग देवजी) - उदयकरण जी ]  
03 - मिलकपुरिया शेखावत - 
आभाजी, अचलाजी,पूरणजी, इन तीन बेटों के वंशज मिलकपुरिया शेखावत कहलाते हैं। मिलकपुर गांव गाँव में रहने से इनका यह नाम पड़ा है।
आभाजी – शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
अचलाजी- शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
पूरणजी – शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी

04 - खेजडोल्या [खेज्डोलिया] शेखावत – 
रिड़ मलजी [रिदमल जी] कुम्भा जी व भारमलजी इन तीन बेटों के वंशज खेजडोल्या [खेज्डोलिया] शेखावत कहलाते हैं। खेजड़ोली गाँव में रहने से इनका यह नाम पड़ा है।
रिड़मलजी [रिदमल जी] - शेखाजी- राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
कुम्भा जी – शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
भारमलजी – शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी

05 - रायमलोत शेखावत [रायमल जी के शेखावत] - 
राव रायमल जी - राव रायमल जी के वंशज रायमलोत शेखावत [रायमल जी के शेखावत] कहलाते हैं। रायमलोत शेखावत [रायमल जी शेखावत] महाराव शेखाजी के सब से छोटे पुत्र राव रायमल जी थे।
राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
महाराव शेखाजी के बेटों के बेटों [पोतों] के वंसजों से शेखावतों की शाखाएँ –:
06 - संतालपोता शेखावत –
संतालजी – कुम्भाजी – शेखाजी
कुम्भा जी के पुत्र संताल जी के बेटों के वंशज सतालपोता शेखावत कहलाते हैं।
कुम्भा जी महाराव शेखाजी के पुत्र थे। संताल जी महाराव शेखाजी के पोते थे।
[कुम्भा जी व उनके पुत्र संतालजी और संतालजी के बेटे तो खेजडोल्या [खेज्डोलिया] शेखावत थे मगर संतालजी के बेटो के बेटे [पोतों]से एक अलग शाखा चली जिसे संतालपोता शेखावत कहलाते हैं।]
07 - बाघावत शेखावत –
बाघाजी – भारमलजी – शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
भारमलजी के बड़े पुत्र बाघाजी के वंशज बाघावत शेखावत कहलाते हैं।
भारमलजी महाराव शेखाजी के पुत्र थे। बाघाजी महाराव शेखाजी के पोते थे।
[भारमलजी के वंशज तो खेजडोल्या [खेज्डोलिया] शेखावत कहलाते हैं।
थे मगर भारमलजी के पुत्र बाघाजी से एक अलग शाखा चली जिसे बाघावत शेखावत कहलाते हैं।]
08 - सुजावत शेखावत –
सूजा जी [सूरजमल जी] - राव रायमल जी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
महाराव शेखाजी के सब से छोटे पुत्र राव रायमल जी थे।राव रायमल जी का पुत्र था सूजा जी [सूरजमल जी] सूजा जी के वंशज सुजावत शेखावत कहलाते हैं।
महाराव शेखाजी के पड़ पोतों के वंसजों से शेखावतों की शाखाएँ –
महाराव शेखाजी के सब से छोटे पुत्र राव रायमल जी थे। राव रायमल जी का पुत्र था सूजा जी के छह पुत्र थे। इन छह पुत्रों से छह शाखाओं का निकास हुवा जो इस प्रकार है-
लूणकरणजी, रायसलजी, गोपाल, भरूँजी, चांदाजी, रामजी,
09 लुणकरण जी का शेखावत –
लुणकरणजी - राव सुजाजी – राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
लुणकरणजी के वंसज लुणकरण जी का शेखावत या लुनावत शेखावत कहलाते हैं। लुणकरण जी अमरासर के राव सुजा जी के पुत्र थे। लुणकरणजी राव रायमलजी के पोते तथा महाराव शेखाजी के पड़ पोते थे।
10 - रायसलोत शेखावत [रायसल जी का शेखावत]
रायसलजी - राव सुजाजी – राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
राजा रायसलजी दरबारी के वंशज रायसलोत शेखावत कहलाते हैं। रायसलजी अमरासर के राव सुजाजी के पुत्र थे।
रायसलजी महाराव शेखाजी के सब से छोटे पुत्र राव रायमल जी के पोते थे। तथा महाराव शेखाजी के पड़ पोते थे।
11 - गोपाल जी का शेखावत –
गोपालजी - - राव सुजाजी – राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
सूजा जी [सूरजमल जी] के पुत्र गोपालजी के वंशज गोपाल जी का शेखावत शेखावत कहलाये हैं।
झुञ्झुणु जिले में गोपाल जी का शेखावत गाँव सेंसवास, जांटवली, फूसखानी गाँव सेंसवास,
गोपालजी अमरासर के राव सुजाजी के पुत्र व राव रायमलजी के पोते थे, तथा महाराव शेखाजी के पड़ पोते थे।
12 - भरूँजी का शेखावत –
भरूँजी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
भरूँजी के वंशज भरूँजी का शेखावत कहलाते हैं। भरूँजी अमरासर के राव सुजाजी के पुत्र व राव रायमलजी के पोते थे, तथा महाराव शेखाजी के पड़ पोते थे।
13 - चांदाजी का शेखावत - [चांदावत शेखावत] -
चांदाजी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
चांदाजी के वंशज चांदाजी का शेखावत - [चांदावत शेखावत] कहलाते हैं। चांदाजी अमरासर के राव सुजाजी के पुत्र व राव रायमलजी के पोते थे, तथा महाराव शेखाजी के पड़ पोते थे।
14 - रामजी का शेखावत -
रामजी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
रामजी के वंशज रामजी का शेखावत कहलाते हैं। रामजी अमरासर के राव सुजाजी के पुत्र व राव रायमलजी के पोते थे, तथा महाराव शेखाजी के पड़ पोते थे।
रायसलजी अमरसर के शासक राव सूजा जी [सूरजमल जी] के द्वितीय पुत्र थे। उनका जन्म राठौड़ रानी रतन कँवर के गर्भ से हुआ था। राजारायसल (दरबारी) खण्डेला के प्रथम शेखावत राजा थे। उन्होंने ई.सं॰1584से1614 तक शासन किया। राजा रायसलजी की पांच शादियां हुयी थी –
राजा रायसलजी की पांच शादियां हुयी थी, जिनसे सात पुत्रों का जन्म हुवा, इन सात पुत्रों से जो अलग सात शाखाएं चली वो इस प्रकार है –
राजा रायसल जी की पहली शादी गांव देवती के बड़गुजर राजपूत लखधीर सिंह की पुत्री अमरतीकँवर के साथ हुयी थी । राजा रायसल जी की रानी अमरतीकँवर के गर्भ से तीन पुत्रों का जन्म हुवा 
इन तीन पुत्रों से तीन शाखाएं चली -
लाडाजी-
से लाडखानी शेखावत
ताजाजी-से ताजखानी शेखावत
परसरामजी-से परसरामजी का शेखावत ।
15 - लाडखानी शेखावत –लाडाजी - रायसल जी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
राजा रायसल जी के पुत्र लाडाजी के वंशज लाडखानी शेखावत शेखावत कहलाते हैं।
लाडाजी रायसल जी के पुत्र व राव सुजाजी के पोते थे, तथा राव रायमलजी के पड़ पोते थे।
लाडाजी को अकबर ने लाडखान कह कर पुकारता था जिससे इन का उप नाम लाडखान टिक गया इसलिए लाडाजी के वंशज लाडखानी शेखावत कहलाये । राजा रायसलजी की पहली शादी गांव देवती के बड़गुजर राजपूत लखधीर सिंह की पुत्री अमरतीकँवर के साथ हुयी थी । राजा रायसल जी की पहली शादी, रानी अमरतीकँवर के गर्भ से तीन पुत्रों का जन्म हुवा था लाडाजी, ताजाजी, परसरामजी,
इन ही लाडाजी के वंशज लाडखानी शेखावत शेखावत कहलाते हैं।
लाड़ा जी, रायसल जी के जेष्ट पुत्र थे किन्तु इन को खंडेला की राजगद्दी नही मिली। इनका नाम लाल सिंह था। सम्राट अकबर इन्हें प्यार से लाडखां कहता था। इनके वंशज लाडखानी शेखावत है। खाचरियावास, रामगढ़ , लामियां, बाज्यवास, धीगपुरा, लालासरी, हुडिल ,तारपुरा ,खुडी निराधणु, रोरु, खाटू ,सांवालोदा, लाडसर लुमास डाबड़ी ,दिणवा,हेमतसर आदि लाडखानियो के गाँव है।
16 - ताजखानी शेखावत -
ताजाजी - रायसल जी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी - उदयकरणजी
राजा रायसल जी के पुत्र ताजाजी के वंशज ताजखानी शेखावत शेखावत कहलाते हैं।
राजा रायसलजी की पहली शादी गांव देवती के बड़गुजर राजपूत लखधीर सिंह की पुत्री अमरतीकँवर के साथ हुयी थी । राजा रायसल जी की पहली शादी, रानी अमरतीकँवर के गर्भ से तीन पुत्रों का जन्म हुवा था लाडाजी, ताजाजी, परसरामजी,
इन ही ताजाजी के वंशज ताजखानी शेखावत कहलाते हैं।
17 – परसरामजी का शेखावत -
परसरामजी - रायसल जी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
राजा रायसल जी के पुत्र परसरामजी के वंशज परसरामजी का शेखावत कहलाते हैं।
राजा रायसलजी की पहली शादी गांव देवती के बड़गुजर राजपूत लखधीर सिंह की पुत्री अमरतीकँवर के साथ हुयी थी । राजा रायसल जी की पहली शादी, रानी अमरतीकँवर के गर्भ से तीन पुत्रों का जन्म हुवा था लाडाजी, ताजाजी, परसरामजी,
इन ही परसरामजी के वंशज परसरामजी का शेखावत कहलाते हैं।
18 - त्रिमलजी [तिरमलजी] का शेखावत -
त्रिमलजी [तिरमलजी] - रायसल जी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
राजा रायसल जी की दूसरी शादी गांव मेड़ता के स्वामी इतिहास प्रसिद्ध वीर जयमल राठौड़ के पुत्र बिठ्ठलदास मेड़तिया की पुत्री [रानी "मेड़तणी जी"]के साथ हुयी थी । राजा रायसल जी की रानी "मेड़तणी जी" के गर्भ से दो पुत्रों का जन्म हुवा त्रिमलजी [तिरमलजी],गिरधरदासजी इन ही त्रिमलजी [तिरमलजी], के वंशज राव जी का शेखावत कहलाये क्यों की तिरमलजी को रावजी की उपाधि थी। इन हीगिरधरदास के वंशज गिरधरदास जी का शेखावत कहलाये। तिरमल जी इन के वंशज राव जी का शेखावत कहलाते है। इनके सीकर व कासली दो बड़े ठिकाने थे। शिव सिंह जी ने फतेहपुर कायमखानी मुसलमानों से जीत कर सीकर राज्य में मिला लिया। टाड़ास, फागलवा ,बिजासी ,खाखोली ,पालावास ,तिडोकी ,जुलियासर ,झलमल ,दुजोद ,बाडोलास ,जसुपुरा ,कुमास ,परडोली ,सिहोट ,गाडोदा , बागड़ोदा,शेखसर सिहोट ,माल्यासी ,बेवा ,रोरु,श्यामगढ़ ,बठोट ,पाटोदा ,सखडी ,दीपपुरा आदि राव जी का शेखावतो के गाँव है।
19 – गिरधरदासजी का शेखावत -
गिरधरदासजी - रायसल जी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
राजा रायसल जी की दूसरी शादी गांव मेड़ता के स्वामी इतिहास प्रसिद्ध वीर जयमल राठौड़ के पुत्र बिठ्ठलदास मेड़तिया की पुत्री [रानी "मेड़तणी जी"]के साथ हुयी थी। राजा रायसल जी की रानी "मेड़तणी जी" के गर्भ से दो पुत्रों का जन्म हुवा त्रिमलजी [तिरमलजी],गिरधरदासजी इन ही गिरधरदास के वंशज गिरधरदास जी का शेखावत कहलाये। राजा गिरधरजी रायसल जी के छोटे पुत्र थे किन्तु खंडेला की राजगद्दी इन्ही को मिली। खंडेला के अलावा दांता व खुड इनके मुख्य ठिकाने हैं। राणोली ,दादिया ,कल्याणपुरा ,तपिपल्या कोछोर ,डुकिया ,भगतपुरा ,रायपुरिया ,तिलोकपुरा ,सुजवास ,रलावता ,पलसाना बानुड़ा ,दुदवा ,रुपगढ़,सांगल्या ,गोडीयावास,जाजोद ठीकरिया ,बावड़ी आदि गिरघर जी के शेखावतो के गाँव हैं।
20 - भोजराजजी का शेखावत -
भोजराजजी - रायसल जी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
भोजराजजी - राजा रायसल के चतुर्थ पुत्र भोजराज का जन्म विक्रमी सम्वत 1624 की भाद्रपद शुक्ला एकादशी के दिन जादव ठकुरानी के गर्भ से [ मेड़ता के स्वामी वीरमदेव के पुत्र जगमालजी की पुत्री हंसकँवर [[हंस कुंवरी]के गर्भ से हुवा था ] इन ही भोजराज के वंशज भोजराजजी का शेखावत कहलाये।
भोजराज मेड़ता के शासक राठोड राव विरमदेव के कनिष्ट पुत्र जगमाल के दोहित्र थे। किशोरावस्था में ही भोजराज को खंडेला में रख कर वहां के शासन प्रबंध के कार्य पर नियुक्त कर दिया गया था। रायसल जी की मृत्यु वि .स . 1672 में हुई।
भोजराज जी के अधिकार में उदयपुर परगने के 45 गाँव जो उनकी जागीर में थे उदयपुरवाटी [पेंतालीसा]
के अलावा खंडेले परगने के 12 गाँव जो उन्हें भाई बंट में मिले थे उनके स्वामित्व में थे। इनके वंशज भोजराज जी का कहलाते है। भोजराज जी के प्रपोत्र शार्दुल सिंह जी ने क्यामखानी नवाबों से झुंझुनू छीन ली तो झुंझुनू वाटी का पूरा प्रदेश इन के कब्जे में आ गया ये सादावत कहलाते है। झाझड ,गोठडा ,धमोरा , चिराणा ,गुढ़ा ,छापोली ,उदयपुरवाटी ,बाघोली ,चला ,मणकसास ,गुड़ा ,पोंख,गुहला ,चंवरा ,नांगल , परसरामपुरा आदि इन के गाँव है जिसको पतालिसा कहा जाता है। शार्दुल सिंघजी के वंशजो के पास खेतड़ी ,बिसाऊ ,सूरजगढ़ ,नवलगढ़ ,मंडावा डुड़लोद ,मुकन्दगढ़ ,महनसर चोकड़ी ,मलसीसर ,अलसीसर आदि ठिकाने थे। 
भोजराज जी के दो पुत्र थे –
       01. टोडरमलजी
       02. जगरामसिंह

01 - टोडरमलजी - आमेर (जयपुर) के क्षत्रिय वंश [कछवाह] से अलग हुई एक शाखा शेखावत वंश महाराव [शेखाजी के वंसज] जिसमें जन्में भोजराज जी के जेष्ठ पुत्र टोडरमल थे । टोडरमल के अधिकार में उदयपुर का परगना यथावत बना रहा। ठाकुर टोडरमल अपने समय के प्रसिद्ध दातार हुये है।
राजा टोडरमल की अनूठी दृढ़ता -
कहा जाता है, की टोडरमल परम धर्मात्मा थे। धीणावता की तांबे की खान से होने वाली आय टोडरमल धार्मिक कार्यों पर खर्च कर देते थे। इससे चिढ़कर खान की देखभाल करने वाले एक अधिकारी ने दिल्ली सल्तनत से उनकी शिकायत कर दी। दिल्ली सल्तनत ने उन्हें रोका, तो राजा टोडरमल ने उसके आदेश के आगे झुकने से इनकार कर दिया। आखिरकार उदयपुर के महाराणा जगत सिंह ने उन्हें अपने राज्य में ससम्मान शरण दी।
उदयपुर के महाराणा की आमेर के राजा से तनातनी थी। वह आमेर के राजा को नीचा दिखाने के अवसर ढूंढते रहते थे। एक दिन राणा जगत सिंह को अजीब सनक सूझी। उन्होंने आमेर के किले की नकली आकृति बनवाई, ताकि उसे ध्वस्त कर आमेर के राजा को अपमानित कर सके। राजा टोडरमल ने महाराणा को समझाया कि इस मनोवृत्ति से शत्रुता पैदा होगी। महाराणा न माने, तो टोडरमल ने संकल्प लिया कि वह अपने पूर्वजों के आमेर का अपमान नहीं होने देंगे। वह तलवार लेकर उस कृत्रिम किले की रक्षा के लिए जा पहुंचे। महाराणा जब वहां पहुंचे, तो टोडरमल को उसकी रक्षा करते देख नतमस्तक होकर बोले, मातृभूमि की रक्षा के लिए आप जैसे वीरों की ही जरूरत है।आगे चलकर राजा टोडरमल ने अपने पराक्रम से राजस्थान के इतिहास में स्वर्णिम अध्याय जोड़ा।
राजा टोडरमल की अनूठी दातारी- कहा जाता है, एक बार टोडरमल कि दातारी की बातें जब उदयपुर (राणाजी का) के महाराणा जगतसिंह के पास पहुंची,तो जगत सिंह को ऐसा लगा कि इस उदयपुर की दातारी नीचे खिसक रही है। अतः उन्होंने टोडरमल की दातारी कि परीक्षा लेने के लिए अपने चारण हरिदास सिंधायच को भेजा। चारण के उदयपुर सीमा में प्रवेश करते ही उनको पालकी में बैठाया,और कहारों के साथ टोडरमल स्वयं भी पालकी में लग गए। उदयपुर पहुँचने पर उनका भारी स्वागत किया गया। बारहठ जी ने जब गद्दी पर टोडरमल के रूप में उसी व्यक्ति को बैठे देखा,जिसने उनकी पालकी में कन्धा दिया था। इससे बारहठ जी बड़े प्रभावित हुए। और जाते वक्त बारहठ जी को क्या दिया इसका तो पता नहीं पर चारण हरिदास उनकी दातारी पर बड़ा प्रसन्न हुआ, और निम्न दोहा कहा।
              "दोय उदयपुर ऊजला ,दोय दातार अटल्ल"
                दोय उदयपुर उजला , दो ही दातार अव्वल।
                एकज राणो जगत सिंह , दूजो टोडरमल ।।

टोडरमल जी के छह पुत्र थे -:
      01 - पुरषोतम सिंघजी - टोडरमल जी के छह पुत्रो में पुरषोतम सिंघजी जेष्ठ पुत्र थे। इनके वंशज झाझड में है।
      02 – भीम सिंघजी - भीम सिंघजी के वंशज मंडावरा, धमोर, गोठडा और हरडिया में है।
      03 – स्याम सिंघजी - स्याम सिंघजी के अधिकार में डीडवाना के पास शाहपुर 12 गाँवो से था।
      04 – सुजाण सिंह – (सुजाण सिंह खंडेला )- टोडरमल जी के वीर पुत्र सुजाण सिंह खंडेला के दवेमंदिर की रक्षार्थ लड़ते हुए वीरगती प्राप्त हुये। तत्पश्चात राव जगतसिंह कासली ने शाहपुरा श्याम सिंह से छीन लिया। पैतृक गाँव छापोली भी इनके पास नही रहा, इनके वंशज मेही मिठाई में हैं। हिम्मत सिंघजी के वंशजो के पास उदयपुर था किन्तु यह भी झुंझार सिंह के पुत्रो नेछीन लिए। इनके वंशज आज कल कारी ,इखात्यरपुरा,पबना आदि गाँवो में है। झुंझार सिंह के पुत्र जगराम सिंह के पुत्र शार्दुल सिंह ने 1787 वि . स . में क्यामखानी नवाब से झुंझुनू पर कब्ज़ा कर लिया।
      05 – झुंझार सिंह - टोडरमल जी पुत्रो में सबसे प्रतापी जुन्झार सिंह थे। जिन्होंने पृथक गुढा गाँव बसाया। टोडरमल जी कि मृत्यु वि.1723 या उसके बाद मानी जानी चाहिए। उनकी स्मृति में "किरोड़ी गांव" में छतरी बनी हुई है। टोडरमल ने अपने रनिवास के लिए उदयपुर में एक सुंदर महल का निर्माण करवाया। जो आज उनके वंशजो द्वारा उपयुक्त देखरेख के अभाव में खँडहर में तब्दील हो चूका है। किरोड़ी गांव में टोडरमल जी ने वि.1670 में गिरधारी जी का मंदिर बनवाया था।
       06 – जगतसिंह - जगतसिंह कासली।

02 – जगरामसिंह - भोजराज जी के पुत्र जगरामसिंह थे, जगरामसिंह के वंसज जगारामोत शेखावत कहलातें हैं। जगरामसिंह के पुत्र गोपालसिंह हुए, गोपालसिंह के पुत्र सालेहदीसिंह थे। भोजराज जी के पुत्र जगरामसिंह थे, जगरामसिंह के पुत्र गोपालसिंह हुए, गोपालसिंह के पुत्र सालेहदीसिंह थे।
गोपालसिंह - जगरामसिंह के पुत्र गोपालसिंह ने केध [Kedh] गांव बसाया।
सालेहदीसिंह - गोपालसिंह के पुत्र सालेहदीसिंह थे। ठाकुर सालेहदीसिंह ने नंगली और मुवारी [मोहनवाड़ी] गांव बसाया।
अमरसिंह - सालेहदीसिंह के पुत्र अमरसिंह और रामसिंह ने खिरोड़ गांव बसाया।
रामसिंह - सालेहदीसिंह के पुत्र अमरसिंह और रामसिंह ने खिरोड़ गांव बसाया।
शार्दुलसिंह - जगरामसिंह भोजराज जी के पुत्र थे, जगरामसिंह के वंसज जगारामोत शेखावत कहलातें हैं, जगरामसिंह के पुत्र शार्दुलसिंह थे -:
शार्दुलसिंह - शेखावाटी के झुंझनू मंडल के उत्प्थगामी मुस्लिम शासकों कायमखानी नवाब] को पराजित कर धीर वीर ठाकुर शार्दुलसिंह ने झुंझनू पर संवत. 1787 में अपनी सत्ता स्थापित की थी। झुंझनु में कायमखानी चौहान नबाब के भाई बंधू अनय पथगामी हो गये थे। उन्हें रणभूमि में पद दलित कर शेखावत वीर शार्दुलसिंह ने झुंझनू पर अधिपत्य स्थापित किया। इस विजय में उनके कायमखानी योद्धा भी सहयोगी थे। ठाकुर शार्दुलसिंह समन्यवादी शासक थे।
उन्होंने झुंझनू पर विजय प्राप्त कर नरहड़ के पीर दरगाह की व्यवस्था के लिए एक गांव भेंट किया और कई स्थानों पर नवीन मंदिर बनवाये और चारणों को ग्रामदि भेंट तथा दान में दिये। ठाकुर शार्दुलसिंह के तीन रानियों से छह प्रतापी पुत्र रत्न हुए। उन्होंने अपने जीवन काल में ही राज्य को पांच भागों में विभाजित कर अपने पांच जीवित पुत्रों के सुपुर्द कर दिया और अपने जीवन के चतुर्थ काल में परशुरामपुरा ग्राम में चले गये। वहां वे ईश्वराधना और भागवद धर्म का चिंतन मनन करने में दत्तचित्त रहने लगे और वहीं उन्होंने देहत्याग किया. परशुरामपुरा में उनकी भव्य व विशाल छत्री बनी है।
शार्दुलसिंह के राज्य के पांच भागों में बंट जाने के कारण यह पंचपाना के नाम से जाना जाता है। पंचपाना में उनके ज्येष्ठ पुत्र जोरावरसिंह के वंशधर चौकड़ी, मलसीसर, मंडरेला, चनाना, सुलताना, टाई और गांगियासर के स्वामी हुये। द्वितीय पुत्र किशनसिंह के खेतड़ी, अडुका, बदनगढ़, तृतीय नवलसिंह के नवलगढ़, मंडावा, मुकन्दगढ, महणसर, पचेरी, जखोड़ा, इस्माइलपुर, बलोदा और चतुर्थ केसरीसिंह के बिसाऊ, सुरजगढ और डूंडलोद आदि ठिकाने थे.। ये ठिकाने अर्द्ध-स्वतंत्र संस्थान थे. जयपुर राज्य से इनका नाम मात्र का सम्बन्ध था। कारण यह भूभाग शार्दूलसिंह और उसके वंशजों ने स्वबल से अर्जित किया था।
खेतड़ी के ठाकुर को कोटपुतली का परगना और राजा बहादुर का उपटंक प्राप्त होने पर उनकी प्रतिष्ठा में और वृद्धि हुई। यहाँ के पांचवें शासक राजा फतहसिंह के बाद राजा अजीतसिंह अलसीसर से दत्तक आकर खेतड़ी की गद्दी पर आसीन हुये। वे अपने सम-सामयिक राजस्थानी नरेशों और प्रजाजनों में बड़े लोकप्रिय शासक थे। वे जैसे प्रजा हितैषी, न्याय प्रिय, कुशल प्रबंधक, उदारचित्त थे, वैसे ही विद्वान, कवि और भक्त हृदय भी थे। राजस्थान के अनेक कवियों ने राजा अजीतसिंह की विवेकशीलता, न्यायप्रियता और गुणग्राहकता की प्रशंसा की है। जोधपुर के प्रसिद्ध कवि महामहोपाध्याय कविराज मुरारिदान आशिया ने कहा-
दान छड़ी कीरत दड़ी, हेत पड़ी तो हाथ।
भास चडी अंग ना भिड़ी, नमो खेतड़ी नाथ।।

ठाकुर शार्दुलसिंह के छह पुत्र थे जिन में से एक पुत्र की म्रत्यु युवा अवस्था में ही हो गयी थी, ठाकुर शार्दुलसिंह ने अपनी जायदाद और राज काज को इन पांच पुत्रों में बराबर बाँट दिया था, और उन पांचों ने पांच जगह अलग अलग अपना शासन करना चालू कर दिया, इस पांच जगह पर बने ठिकानों को पंच पाना के नाम से जाना जाता है।
महाराव शार्दुलसिंह शेखावत का जन्म 1681 में हुआ था, और म्रत्यु 17 अप्रेल1742 में हुयी थी। वे झुंझुनूं के शासक थे। शार्दुलसिंह की तीन शादियांहुई थी-:
पहली शादी 1698 में सहजकांवर [बिकीजी] के साथ हुयी जो मनरूपसिंह राठौर [ बिका ] गांव नाथासर की पुत्रि थी।
दूसरी शादी सिरेकंवर [बिकीजी] के साथ हुयी जो नाथासर गांव के मकलसिंह की पुत्रि थी।
तीसरी शादी बखतकंवर के साथ हुयी जो गांव पूंगलोत (डेगाना) [जिला - नागौर [राजस्थान]] के देवीसिंह राठोड़ [मेड़तिया] की पुत्रि थी। झुंझुनू के शासक शार्दुल सिंह शेखावत की रानी मेड़तनी जी ने सन 1783 ई० मे एक बावड़ी का निर्माण करवाया था। जिसे मेड़तनी की बावड़ी के नाम से जाना जाता है। जगरामसिंह, रायसल जी के पुत्र भोजराजजी के पुत्र थे, जगरामसिंह के पुत्र शार्दुलसिंह थे
शार्दुलसिंहके छह पुत्र हुए थे -:
      01 - जोरावरसिंह - जोरावरसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की पहली पत्नी सहजकंवर [बिकीजी] की कोख से गांव कांट, जिला - झुंझुनूं [राजस्थान] में हुवा था उन्होंने जोरावरगढ़ फोर्ट बनवाया था, जोरावरसिंह की म्रत्यु 1745 में हुयी थी, इनके वंसज चौकड़ी ,टाई, कालीपहाड़ी, मलसीसर, गांगियासर,मंड्रेला आदि में।
      02 - किशनसिंह - किशनसिंह का जन्म शार्दुलसिंह कीतीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, किशनसिंह का जन्म 1709, में हुवा था। इनके वंसज खेतड़ी, हीरवा, अरूका, सीगर, अलसीसर आदि में। किशनसिंह के पुत्र भोपालसिंह, भोपालसिंह के पुत्र पहाड़सिंह व बाघसिंह [खेतड़ी]
      03 – बहादुरसिंह - [युवा अवस्था में म्रत्यु] बहादुरसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा थ, बहादुरसिंह का जन्म 1712, में हुवा था और म्रत्यु 1732 में ।
      04 – अखेसिंह - अखेसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, अखेसिंह का जन्म 1713, में हुवा था और म्रत्यु 1750 में इन के कोई सन्तान नहीं थी ।
      05 - नवलसिंह - नवलसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, नवलसिंह का जन्म 1715, में हुवा था और म्रत्यु 14 फ़रवरी 1780 में । इन के वंसज नवलगढ़, महनसर, दोरासर, मुकुंदगढ़, नरसिंघानी,बलूंदा और मंडावा आदि में ।
      06 – केसरीसिंह - शार्दुलसिंह के सबसे छोटे पुत्र यानि छठें पुत्र केशरीसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, नवलसिंह का जन्म 1728, में हुवा था और म्रत्यु 1768 में । इन के वंसज डूंडलोद, सूरजगढ़ , और बिसाऊ आदि में ।
01 - जोरावरसिंह - (ठाकुर जोरावरसिंह के वंसज): चौकड़ी
जोरावरसिंह - जोरावरसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की पहली पत्नी सहजकंवर [बिकीजी] की कोख से गांव कांट, जिला - झुंझुनूं [राजस्थान] में हुवा था उन्होंने जोरावरगढ़ फोर्ट बनवाया था, जोरावरसिंह की म्रत्यु 1745 में हुयी थी, इनके वंसज चौकड़ी ,टाई, कालीपहाड़ी, मलसीसर, गांगियासर,मंड्रेला आदि में।
जोरावरसिंह [झुंझुनू] के पांच पुत्र हुए -:
      01. बखतसिंह - बखतसिंह ने 1745 में चौकड़ी गांव बसाया ।
      02. महासिंह - जोरावरसिंह झुंझुनू के पुत्र महासिंह ने 1745 में मलसीसर गांव बसाया।
      03. दौलतसिंह - जोरावरसिंह झुंझुनू के तीसरे पुत्र दौलतसिंह नें 1751/1791 मंड्रेला गांव बसाया।
      04. सालिमसिंग - जोरावरसिंह झुंझुनू के पुत्र सालिमसिंग ने टाइ व सिरोही गांव बसाया।
      05. कीरतसिंह - जोरावरसिंह झुंझुनू के पुत्र कीरतसिंह ने डाबड़ी गांव बसाया ।
रणजीतसिंह - रणजीतसिंह दौलतसिंह के पुत्र व जोरावरसिंह के पोते थे, रणजीतसिंह ने चनाना गांव बसाया था।
02 - किशनसिंह – (ठाकुर किश नसिंह के वंसज): खेतड़ी
किशनसिंह - किशनसिंह का जन्म शार्दुलसिंह कीतीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, किशनसिंह का जन्म 1709, में हुवा था। इनके वंसज खेतड़ी, हीरवा, अरूका, सीगर, अलसीसर आदि में। किशनसिंह के पुत्र भोपालसिंह, भोपालसिंह के पुत्र पहाड़सिंह व बाघसिंह [खेतड़ी]
खेतड़ी नगर 1742 में ठाकुर किशनसिंह ने बसाया था जो प्राचीन रियासत जयपुर का सीकर के बाद खेतड़ी नगर दूसरा सबसे बड़ा ठिकाना था।

01 - भोपालसिंह - ठाकुर किशनसिंह के पुत्र भोपालसिंह ने 1970 में भोपालगढ़ फोर्ट, बागोर फोर्ट' और खेतड़ी महल बनवाये थे। किशनसिंह के पुत्र भोपालसिंह भोपालसिंह के दो पुत्र हुए-:
             * - पहाड़सिंह
             *- बाघसिंह [खेतड़ी] - और भोपालसिंह के पुत्र पहाड़सिंह ने हीरवा के किले [गढ़] का निर्माण 1763 में करवाया था।
02 - छत्तरसिंह - ठाकुर किशनसिंह के पुत्र छत्तरसिंह अलसीसर और उसके किले [गढ़] का पहली बार निर्माण 1853.में किया था, उसके बाद अलसीसर की दूसरी बार बसावट ठाकुर गणपतसिंह ने 1853.में की थी।
03 - रामनाथसिंह - ठाकुर किशनसिंह के पुत्र ठाकुर रामनाथसिंह ने हीरवा गांव बसाया था।
04 - मेहताबसिंह - सिगरा गांव ठाकुर किशनसिंह के पुत्र मेहताबसिंह ने बसाया था।
05 - दुल्हासिंह - अरूका गांव ठाकुर किशनसिंह के पुत्र ठाकुर दुल्हासिंह ने 1796.बसाया था।
06 - बदनसिंह - बदनगढ़ ठिकाने की स्थापना ठाकुर किशनसिंह के पुत्र ठाकुर बदनसिंह ने की थी।
03 – बहादुरसिंह - [युवा अवस्था में म्रत्यु] –
बहादुरसिंह - [युवा अवस्था में म्रत्यु] बहादुरसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा थ, बहादुरसिंह का जन्म 1712, में हुवा था और म्रत्यु 1732 में ।
04 – अखेसिंह 
अखेसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, अखेसिंह का जन्म 1713, में हुवा था और म्रत्यु 1750 में इन के कोई सन्तान नहीं थी ।
05 – नवलसिंह- (ठाकुर नवलसिंह के वंसज): नवलगढ़
नवलसिंह - नवलसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, नवलसिंह का जन्म 1715, में हुवा था और म्रत्यु 14 फ़रवरी 1780 में। इन के वंसज नवलगढ़, महनसर, दोरासर, मुकुंदगढ़, नरसिंघानी,बलूंदा और मंडावा आदि में ।
नवलगढ़ , की स्थापना रोहिली गांव के पास ठाकुर नवलसिंह ने 1737 में की थी तथा वंहा पैर दो किले [गढ़] बनवाये पहला बाला किला[गढ़], दूसरा किला[गढ़] काचियागढ़ फोर्ट वर्तमान में काचियागढ़ को रूपनिवास पैलेस के नाम से जाना जाता है।
मंडावा, नवलगढ़ के ठाकुर नरसिंहदास के तीसरे और चौथे पुत्र ने 1791 में को बसाया और 1755 में किले [गढ़] का निर्माण ठाकुर नवलसिंह करवाया था।

नाहरसिंह - नवलगढ़ के ठाकुर नवलसिंह के पुत्र नाहरसिंह ने महनसर गांव 1768 में बसाया था तथ वंहा एक किले [गढ़] का निर्माण करवाया था।
भवानीसिंह - ठाकुर नाहरसिंह के पुत्र भवानीसिंह ने परसरामपुरा, ठिकाने का निर्माण किया था,और वंहाँ पर एक छोटा किले [गढ़] का निर्माण भी करवाया था।
मुकंदसिंह - नवलगढ़ के ठाकुर नाथूसिंह के पुत्र मुकंदसिंह ने 1859 में मुकुंदगढ़ ठिकाने का निर्माण किया था।
प्रेमसिंह - दोरासर और पचेरी, ठिकाने का निर्माण प्रेमसिंह ने किया था।
इस्माइलपुर
जाकोड़ा
कोलिंडा आदि
06 – केशरीसिंह - (ठाकुर केसरीसिंह के वंसज) डूंडलोद
केसरीसिंह - शार्दुलसिंह के सबसे छोटे पुत्र यानि छठें पुत्र केशरीसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, नवलसिंह का जन्म 1728, में हुवा था और म्रत्यु 1768 में । इन के वंसज डूंडलोद, सूरजगढ़, और बिसाऊ आदि में। डूंडलोद, ठिकाने का निर्माण ठाकुर केसरीसिंह ने किया था, केसरीसिंह ने डूंडलोद किले [गढ़] का निर्माण 1750.में करवाया था।बिसाऊ , ठिकाने का निर्माण ठाकुर केसरीसिंह ने 1746 में किया था, और वंहाँ पर एक किले [गढ़] का निर्माण भी करवाया था।
सूरजमलजी - सूरजगढ़, ठिकाने का निर्माण 1778 में ठाकुर सूरजमल ने किया और और वंहाँ पर एक किले [गढ़] का निर्माण भी करवाया था।
03 – झूँझारसिंह - 
झुंझार सिंह - झुंझार सिंह टोडरमल जी पुत्रो में सबसे प्रतापी जुन्झार सिंह थे। जिन्होंने पृथक गुढा गाँव बसाया।
भोजराजजी के शेखावतों की दो उप शाखाये हैं -
राजा रायसल के पुत्र और उदयपुरवाटी के स्वामी भोजराज के वंशज भोजराज जी का शेखावत कहलाते हैं, भोजराज जी के शेखावतों की दो उप शाखाएँ हैं –:
       
        01.-शार्दुल सिंह का शेखावत -
        02.-सलेदी सिंह का शेखावत -
1.शार्दुलसिंह का शेखावत - शेखावाटी के झुंझनू मंडल के उत्प्थगामी मुस्लिम शासकों कायमखानी नवाब] को पराजित कर धीर वीर ठाकुर शार्दुलसिंह ने झुंझनू पर संवत. 1787 में अपनी सत्ता स्थापित की थी। झुंझनु में कायमखानी चौहान नबाब के भाई बंधू अनय पथगामी हो गये थे। उन्हें रणभूमि में पद दलित कर शेखावत वीर शार्दुलसिंह ने झुंझनू पर अधिपत्य स्थापित किया। इस विजय में उनके कायमखानी योद्धा भी सहयोगी थे। ठाकुर शार्दुलसिंह समन्यवादी शासक थे। उन्होंने झुंझनू पर विजय प्राप्त कर नरहड़ के पीर दरगाह की व्यवस्था के लिए एक गांव भेंट किया और कई स्थानों पर नवीन मंदिर बनवाये और चारणों को ग्रामदि भेंट तथा दान में दिये। ठाकुर शार्दुलसिंह के तीन रानियों से छह प्रतापी पुत्र रत्न हुए। उन्होंने अपने जीवन काल में ही राज्य को पांच भागों में विभाजित कर अपने पांच जीवित पुत्रों के सुपुर्द कर दिया और अपने जीवन के चतुर्थ काल में परशुरामपुरा ग्राम में चले गये। वहां वे ईश्वराधना और भागवद धर्म का चिंतन मनन करने में दत्तचित्त रहने लगे और वहीं उन्होंने देहत्याग किया. परशुरामपुरा में उनकी भव्य व विशाल छत्री बनी है।
पंचपाना 
शार्दुलसिंह के राज्य के पांच भागों में बंट जाने के कारण यह पंचपाना के नाम से जाना जाता है। पंचपाना में उनके ज्येष्ठ पुत्र जोरावरसिंह के वंशधर चौकड़ी, मलसीसर, मंडरेला, चनाना, सुलताना, टाई और गांगियासर के स्वामी हुये। द्वितीय पुत्र किशनसिंह के खेतड़ी, अडुका, बदनगढ़, तृतीय नवलसिंह के नवलगढ़, मंडावा, मुकन्दगढ, महणसर, पचेरी, जखोड़ा, इस्माइलपुर, बलोदा और चतुर्थ केसरीसिंह के बिसाऊ, सुरजगढ और डूंडलोद आदि ठिकाने थे.। ये ठिकाने अर्द्ध-स्वतंत्र संस्थान थे. जयपुर राज्य से इनका नाम मात्र का सम्बन्ध था। कारण यह भूभाग शार्दूलसिंह और उसके वंशजों ने स्वबल से अर्जित किया था।
खेतड़ी के ठाकुर को कोटपुतली का परगना और राजा बहादुर का उपटंक प्राप्त होने पर उनकी प्रतिष्ठा में और वृद्धि हुई। यहाँ के पांचवें शासक राजा फतहसिंह के बाद राजा अजीतसिंह अलसीसर से दत्तक आकर खेतड़ी की गद्दी पर आसीन हुये। वे अपने सम-सामयिक राजस्थानी नरेशों और प्रजाजनों में बड़े लोकप्रिय शासक थे। वे जैसे प्रजा हितैषी, न्याय प्रिय, कुशल प्रबंधक, उदारचित्त थे, वैसे ही विद्वान, कवि और भक्त हृदय भी थे। राजस्थान के अनेक कवियों ने राजा अजीतसिंह की विवेकशीलता, न्यायप्रियता और गुणग्राहकता की प्रशंसा की है। जोधपुर के प्रसिद्ध कवि महामहोपाध्याय कविराज मुरारिदान आशिया ने कहा-

                          दान छड़ी कीरत दड़ी, हेत पड़ी तो हाथ।
                          भास चडी अंग ना भिड़ी, नमो खेतड़ी नाथ।।

ठाकुर शार्दुलसिंह के छह पुत्र थे जिन में से एक पुत्र की म्रत्यु युवा अवस्था में ही हो गयी थी, ठाकुर शार्दुलसिंह ने अपनी जायदाद और राज काज को इन पांच पुत्रों में बराबर बाँट दिया था, और उन पांचों ने पांच जगह अलग अलग अपना शासन करना चालू कर दिया, इस पांच जगह पर बने ठिकानों को पंच पाना के नाम से जाना जाता है।
महाराव शार्दुलसिंह शेखावत का जन्म 1681 में हुआ था, और म्रत्यु 17 अप्रेल1742 में हुयी थी। वे झुंझुनूं के शासक थे।
शार्दुलसिंह की तीन शादियांहुई थी-:
01 - पहली शादी 1698 में सहजकांवर [बिकीजी] के साथ हुयी जो मनरूपसिंह राठौर [ बिका ] गांव नाथासर की पुत्रि थी।
02 - दूसरी शादी सिरेकंवर [बिकीजी] के साथ हुयी जो नाथासर गांव के मकलसिंह की पुत्रि थी।
03 - तीसरी शादी बखतकंवर के साथ हुयी जो गांव पूंगलोत (डेगाना) [जिला - नागौर [राजस्थान]] के देवीसिंह राठोड़ [मेड़तिया] की पुत्रि थी। झुंझुनू के शासक शार्दुल सिंह शेखावत की रानी मेड़तनी जी ने सन 1783 ई० मे एक बावड़ी का निर्माण करवाया था। जिसे मेड़तनी की बावड़ी के नाम से जाना जाता है। जगरामसिंह, रायसल जी के पुत्र भोजराजजी के पुत्र थे, जगरामसिंह के पुत्र शार्दुलसिंह थे।
शार्दुलसिंह के छह पुत्र हुए थे -:
01 - जोरावरसिंह - जोरावरसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की पहली पत्नी सहजकंवर [बिकीजी] की कोख से गांव कांट, जिला - झुंझुनूं [राजस्थान] में हुवा था उन्होंने जोरावरगढ़ फोर्ट बनवाया था, जोरावरसिंह की म्रत्यु 1745 में हुयी थी, इनके वंसज चौकड़ी ,टाई, कालीपहाड़ी, मलसीसर, गांगियासर,मंड्रेला आदि में।
02 - किशनसिंह - किशनसिंह का जन्म शार्दुलसिंह कीतीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, किशनसिंह का जन्म 1709, में हुवा था। इनके वंसज खेतड़ी, हीरवा, अरूका, सीगर, अलसीसर आदि में। किशनसिंह के पुत्र भोपालसिंह, भोपालसिंह के पुत्र पहाड़सिंह व बाघसिंह [खेतड़ी]
03 – बहादुरसिंह - [युवा अवस्था में म्रत्यु] बहादुरसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा थ, बहादुरसिंह का जन्म 1712, में हुवा था और म्रत्यु 1732 में ।
04 – अखेसिंह - अखेसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, अखेसिंह का जन्म 1713, में हुवा था और म्रत्यु 1750 में इन के कोई सन्तान नहीं थी ।
05 - नवलसिंह - नवलसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, नवलसिंह का जन्म 1715, में हुवा था और म्रत्यु 14 फ़रवरी 1780 में। इन के वंसज नवलगढ़, महनसर, दोरासर, मुकुंदगढ़, नरसिंघानी,बलूंदा और मंडावा आदि में ।
06 – केसरीसिंह - शार्दुलसिंह के सबसे छोटे पुत्र यानि छठें पुत्र केशरीसिंह का जन्म शार्दुलसिंह की तीसरी पत्नी बखतकंवर की कोख से हुवा था, नवलसिंह का जन्म 1728, में हुवा था और म्रत्यु 1768 में । इन के वंसज डूंडलोद, सूरजगढ़, और बिसाऊ आदि में ।
भोजराजजी के पोते जुझारसिंहजी के बेटों से भी दो उपशाखाएँ निकली हैं –
राजा रायसल के चतुर्थ पुत्र भोजराजजी गुढा के शासक थे। भोजराज जी के पुत्र टोडरमलजी थे, टोडरमलजी के पुत्र झूँझारसिंह थे।जुझारसिंहजी की सन्तानों से मातृपक्ष के आधार पर दो उप शाखाये हैं –:
गौड़ जी के शेखावत, वीदावतजी के शेखावत
21 - गौड़ जी के शेखावत -
जुझारसिंहजी - टोडरमलजी - भोजराजजी - रायसलजी - - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
राजा रायसल के चतुर्थ पुत्र भोजराजजी गुढा के शासक थे। भोजराज जी के पुत्र टोडरमलजी थे, टोडरमल जी के छह पुत्र थे -:
01 - पुरषोतमसिंहजी - टोडरमल जी के छह पुत्रो में पुरषोतम सिंघजी जेष्ठ पुत्र थे। इनके वंशज झाझड में है।
02 – भीमसिंहजी - भीम सिंघजी के वंशज मंडावरा, धमोरा , गोठडा और हरडिया में है।
03 – स्यामसिंहजी - स्याम सिंघजी के अधिकार में डीडवाना के पास शाहपुर 12 गाँवो से था,
04 – सुजाण सिंह – (सुजाण सिंह खंडेला)
05 – झुंझार सिंह - टोडरमल जी के पुत्रो में सबसे प्रतापी जुन्झार सिंह थे। जिन्होंने पृथक गुढा गाँव बसाया।
06 – जगतसिंह - जगतसिंह कासली
राजा रायसल के चतुर्थ पुत्र भोजराजजी थे। टोडरमल जी के पुत्र जुझारसिंहजी गुड़ा के शासक थे।
गुड़ा के शासक जुझारसिंहजी ''गौडजी'' रानी के पुत्रों के वंशज मातृपक्ष के आधार पर गौड जी के शेखावत कहलाते है।
 22 - वीदावत जी के शेखावत -
जुझारसिंहजी - टोडरमलजी - भोजराजजी - रायसलजी - - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
राजा रायसल के चतुर्थ पुत्र भोजराजजी गुढा के शासक थे। भोजराज जी के पुत्र टोडरमलजी थे, टोडरमल जी के छह पुत्र थे -:
01 - पुरषोतमसिंहजी - टोडरमल जी के छह पुत्रो में पुरषोतम सिंघजी जेष्ठ पुत्र थे। इनके वंशज झाझड में है।
02 – भीमसिंह जी - भीम सिंघजी के वंशज मंडावरा, धमोरा , गोठडा और हरडिया में है।
03 – स्यामसिंहजी - स्याम सिंघजी के अधिकार में डीडवाना के पास शाहपुर 12 गाँवो से था,
04 – सुजाणसिंह – (सुजाण सिंह खंडेला)
05 – झुंझारसिंह - टोडरमल जी पुत्रो में सबसे प्रतापी जुन्झार सिंह थे। जिन्होंने पृथक गुढा गाँव बसाया। टोडरमल जी कि मृत्यु वि.1723 या उसके बाद मानी जानी चाहिए। उनकी स्मृति में "किरोड़ी गांव" में छतरी बनी हुई है। टोडरमल ने अपने रनिवास के लिए उदयपुर में एक सुंदर महल का निर्माण करवाया। जो आज उनके वंशजो द्वारा उपयुक्त देखरेख के अभाव में खँडहर में तब्दील हो चूका है। किरोड़ी गांव में टोडरमल जी ने वि.1670 में गिरधारी जी का मंदिर बनवाया था।
06 – जगतसिंह - जगतसिंह कासली
राजा रायसल के चतुर्थ पुत्र भोजराजजी थे। टोडरमल जी के पुत्र जुझारसिंहजी गुड़ा के शासक थे।
गुड़ा के शासक जुझार सिंह जी की ''वीदावत'' रानी के पुत्र मातृपक्ष के आधार पर वीदावत जी के शेखावत कहलाते है।
23 - वीरभानजी का शेखावत -
वीरभानजी का - रायसल जी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
राजा रायसल जी की चौथी शादी गांव मारोठ के स्वामी कुम्भा जी गौड़ की पुत्री लाडकँवर [[रानी "गौड़जी] के साथ हुयी थी । राजा रायसल जी की रानी लाडकँवर [[रानी "गौड़जी] के गर्भ से एक पुत्र का जन्म हुवा- वीरभानजी, इन ही वीरभानजी के वंशज वीरभानजी का शेखावत कहलाये।
24 - हरजी का शेखावत [हररामजी का] –
हरजी [हररामजी] - रायसल जी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
राजा रायसल जी की पांचवी शादी चौहान राजपूत राजकुमारी किंनवती निर्बनस के साथ हुआ जो खण्डेला के राजा की पुत्री थी। जिससे पुत्र हुवा हरजी, इन्ही हरजी के वंसज हरजी का शेखावत [हररामजी का] कहलाये। इन को उप नाम हरिदामजी के नाम से भी पुकारते थे कहीं - कांहीं इनको हरिदामजी के शेखावत भी बोला जाता है।
हरिरामजी के वंशज हरिरामजी का शेखावत कहलाते है। मूंडरु, दादिया ,जेठी आदि इनके गाँव है।
25 - भरूँ जी का शेखावत -
भरूँजी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
सूजा जी [सूरजमल जी] के पुत्र भरूँजी के वंशज भरूँ जी का शेखावत का शेखावत कहलाये हैं।
भरूँ जी - सूजा जी [सूरजमल जी] के पुत्र भैरुजी के 5 पुत्र थे जिनके नाम-
       01. नरहरदास जी
       02. कुंवरसल जी 
       03. बारीसाल जी 
       04. सांगा जी 
       05. भारमल जी 
भैरुजी के इन  पांचों पुत्रों के वंशज वंशज “भैरुजी के शेखावत” कहलाए।
नरहरदास - भैरुजी के पुत्र नरहरदास के 18 पुत्र हुये जिनमे
       01 - कवरसी
       02 - कशोदास
       03 - राजसी
       04 - जगन्नाथ
       05 - जसवंत
       06 - जगरूप
       07 - जैतसी
       08 - रायसी
       09 - नाहरखाँ (नाहर सिंह)
       10 - गोरधन
       11 - बालदास
       12 - किशनसिंह
       13 - मुकुन्दसिंह
       14 - हरीसिंह
       15 - रघुनाथ सिंह
       16 - भीमसिंह
       17 - रामसिंह
       18 - नारायणसिंह

भैरुजी के ये 8 पुत्र कवरसी, कशोदास, राजसी, जगन्नाथ, जसवंत, जगरूप, जैतसी, रायसी हिसार के नवाब के साथ वि.1679 में लड़ाई मे वीरगति को प्राप्त हुये ।
नाहरखाँ (नाहरसिंह) - नरहरदास के पुत्र नाहरखाँ (नाहर सिंह) के चार पुत्र हुये जिनके नाम थे –
       01 - मदन सिंह
       02 - शक्ति सिंह
       03 - तेजसिंह
       04 - विरभानसिंह

इनमे नाहर सिंह के बाद मदन सिंह गद्दी पर बैठे। शक्तिसिंह को बँटवारे मे गुगलवा और बेवड गाँव दिये गए थे ।
26 - चांदाजी का शेखावत [चांदावत शेखावत] -
चांदाजी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
सूजा जी [सूरजमल जी] के पुत्र चांदाजी के वंशज भरूँ जी का शेखावत का शेखावत कहलाये हैं।
27 - चांदापोता शेखावत -
चांदाजी के वंसज - चांदाजी - राव सुजाजी -– राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
सूजा जी [सूरजमल जी] के पुत्र चांदाजी के बेटों के वंसज यानि चांदाजी के पोतों और उनके चांदापोता शेखावत कहलाये हैं।
28 – तेजसी के शेखावत –
तेजसी - राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
शेखाजी के सबसे छोटे पुत्र राव रायमल जी के पुत्र तेजसी के वंशज तेजसी के शेखावत कहलाते हैं। अलवर जिले के नारायणपुर ,गढ़ी ,मामोड़ और बाणासुर के गाँवो में हैं।
29 - सहसमलजी के शेखावत -
सहसमलजी - राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
शेखाजी के सबसे छोटे पुत्र राव रायमल जी के पुत्र सहसमलजी के वंशज सहसमलजी के शेखावत कहलाते हैं। सहसमल जी को 12 गांवों सहित सांईवाड की जागीर मिली थी, सहसमल जी की एक पुत्री (मदालसा देवी ) का विवाह आमेट के रावत पत्ताजी चुण्डावत से हुआ था जिन्होंने चितोड़ के तीसरे शाके का नेतृत्व किया था।
30 - जगमालजी के शेखावत -
जगमालजी - राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
शेखाजी के सबसे छोटे पुत्र राव रायमलजी के पुत्र जगमालजी के वंशज जगमालजी के शेखावत कहलाते हैं। जगमाल को 12 गाँवो सहित हमीरपुर व हाजीपुर की जागीर मिली जो अलवर जिले में हैं। जगमाल का पुत्र दुदा वीर व उदार राजपूत था उसकी प्रसिधी के कारण इन के वंशज दुदावत शेखावत कहलाते है।
31 - दुदावत शेखावत -
दुदाजी - जगमालजी - राव रायमलजी - शेखाजी - राव मोकलजी - राव बाला जी – उदयकरणजी
जगमालजी पुत्र दुदाजी के वंशज दुदावत शेखावत कहलाते हैं। दुदाजी, राव रायमलजी के पोते व शेखाजी के पड़ पोते थे जगमालजी का पुत्र दुदाजी वीर व उदार राजपूत था उसकी प्रसिधी के कारण इन के वंशज दुदावत शेखावत कहलाते है।
32 - सीहा के शेखावत -
राव रायमल जी के 6 पुत्र थे -:
       01 – तेजसी
       02 - सहसमल जी
       03 - जगमाल
       04 - सीहा
       05 - सुरताण

रायमल जी के पुत्र सीहा के वंसज सीहा के शेखावत कहलाये हैं।
33 - सुरताण के शेखावत -
राव रायमल जी के 6 पुत्र थे
       01 – तेजसी
       02 - सहसमल जी
       03 - जगमाल
       04 - सीहा
       05 - सुरताण

रायमल जी के पुत्र सुरताण के वंसज सुरताण के शेखावत कहलाये हैं।
34 - नरहरदासोत शेखावत –
राव सुजाजी के पुत्र भरूँजी के 5 पुत्र थे -:
       01. नरहरदास जी
       02. कुंवरसल जी
       03. बारीसाल जी
       04. सांगा जी
       05. भारमल जी

भरूँजी के पुत्र नरहरदासजी के वंसज नरहरदासोत शेखावत कहलाये हैं।
35 - उग्रसेन जी का शेखावत -
लूणकर्णजी के पुत्र नरसिंहदासजी थे, नरसिंहदासजी के पुत्र उग्रसेनजी थे, इन्हीं उग्रसेनजी के वंसज उग्रसेन जी का शेखावत कहलाये हैं। उग्रसेन के वंशज- शाहपुरा और मनोहरपुरा के राव हैं। लुणकरण जी राव सुजा जी के पुत्र थे।
36 - अचल्दासजी का शेखावत [अचलदासोत शेखावत]
राव लूणकर्ण के पुत्र भगवानदासजी थे, भगवानदासजी के पूत्र अचलदास जी के वंशज अचलदास जी के शेखावत कहलाते हैं। लुणकरण जी राव सुजा जी के पुत्र थे।
अचलदासोत शेखावत - जाहोता सहित बारह गांव ,
भगवानदासजी के पुत्र ठाकुर अचलदासजी मेहरोली केठाकुर साहब थे, उन को भाई बंटवारे में रूंडल गांव मिला था, अचलदासजी के वंसज अचलदासोत शेखावत कहलातें है।
भगवानदासजी अमरसर ठिकाने के ठिकानेदार राव लुनकरणजी (1548/1584) के छोटे बेटे थे। लुणकरण जी राव सुजा जी के पुत्र थे।
(अचलदासोत शेखावत ठिकाना जाहोता)
अचलदासजी के चार पुत्र थे -:
       01 - जगतसिंह [जुनसिया]
       02 - सगतसिंह (सगतसिंह का वंस आगे चला)
       03 - हिम्मतसिंह [के वंसज राडावास, जयसिंहपुरा और सामोद में रहतें है]
       04 - केसरीसिंह [के वंसज कांकरा जिला सीकर राजस्थान]
37 - सावलदासजी का शेखावत -
राव लूणकर्ण के पुत्र सांवलदासजी थे, के वंशधर सांवलदासजी के वंशज सांवलदासजी का शेखावत कहलाते हैं। लुणकरण जी राव सुजा जी के पुत्र थे।
38 - मनोहर दासोत शेखावत -
लूणकर्ण के छोटे पुत्र मनोहरदास जी अमरसर के शासक हुए। मनोहरदास जी के वंशज मनोहर दासोत शेखावत कहलाते हैं।
उग्रसेन जी के शेखावतों की ही उप शाखा है मनोहर दासोत शेखावत
39 - जगारामोत शेखावत –
जगरामसिंह के वंसज जगारामोत शेखावत कहलातें हैं
जगरामसिंह भोजराज जी के पुत्र थे,
जगरामसिंह के पुत्र शार्दुलसिंह थे, शार्दुलसिंह पांच पुत्र हुए –
       01 - जोरावरसिंह
       02 - किशनसिंह - किशनसिंह के पुत्र भोपालसिंह, भोपालसिंह के पुत्र पहाड़सिंह व बाघसिंह [खेतड़ी]
       03 – बहादुरसिंह [युवा अवस्था में म्रत्यु]
       04 - अखेसिंह
       05 - नवलसिंह
       06 - केसरीसिंह

peptogawas.com


[लेखक एवं संकलन कर्ता - पेपसिंह राठौड़ तोगावास
गाँवपोस्ट - तोगावास, तहसील – तारानगर,जिला - चुरू, (राजस्थान) पिन - 331304 ]
।।इति।।

21 comments:

  1. जय माता जी की हुकम।
    आपका प्रयास बेहद् सराहनीय है जो आपने ये महत्वर्पूण जा़नकारी साझा की है।

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत सादुवाद हुकुम । पेफ सिंह जी जानकारी देने के लिए ।।

    ReplyDelete
  3. मुझे लूकरण जीके शेखावतों की विस्तृत जानकारी चाहिए 🙏🙏🙏🙏🙏

    ReplyDelete
  4. Hkm ess m 2 shekhawato k gaanv k naam aap n nhi diye jis m ek pundalsar hai or ek aaslsar pundalsar bkn jile m or aaslsar churu y gaanv khandela s uthe hue hai

    ReplyDelete
  5. Hkm ugarsen ji ke Shekhawat ke thikane btaye

    ReplyDelete
  6. Khotiya ugarsen ji ke shekawats ka thikana h kya

    ReplyDelete
  7. Khotiya ugarsen ji ke shekawats ka thikana h kya

    ReplyDelete
  8. Hkm ugarsen ji ke Shekhawat ke thikane btaye

    ReplyDelete
  9. Mujhe Hariram g ke Shekhawato ki full details de hukam

    ReplyDelete
  10. Information is superb.
    But we should also add new one who do remarkable work for our Dinesty.
    Jai Ma Bhavni

    ReplyDelete
  11. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  14. जय माता जी की सा
    हुक्म ईसमे राज श्री ठाकुर साहब श्री दलेल सिंह जी शेखावत बलौदा(पिलानी फोर्ट) के बारे मे भी लिख कर जोङो। ठाकुर दलेल सिंह जी शेखावत नवलगढ़ महाराजा श्री नवल सिंह शेखावत के तीसरे पुत्र थे । जिनको पिलानी व बलोदा ठिकाणे के साथ 12 गांवों का राज था ।दलेल सिंह जी ने पहले पिलानी व बाद मे बलोदा ठिकाणा की स्थापना की ।उनके वशजं वर्तमान मे बलोदा ठिकाना में हैह

    ReplyDelete
  15. जय माता जी री हुकुम
    बहुत जोरदार प्रयास किया है आपने 🙏🏼 मंड्रेला ठिकाणे का 1751 इतिहास भी बताओ सा ,,,ठाकूर साहब महाराज जोरावर सिंह शेखावत जी के बाद रो इतिहास बताओ थे माहनै⚔️

    ReplyDelete
  16. Khamaghani hukum, very nice effort to provide detailed info. Kindly give detailed info on Raislot sub clan-LADKHANIS', and their Thikana. Please add village THIMOLI (SIKAR) as Thikana of LADKHANIS', they have migrated from Singhasan(Sikar)8generations ago. Thakur Sangram Singhji Ladkhani was first Thakur of Thimoli, since then presently it's 9th generation. Please add the same. Regards, Thakur Onarh Singh Shekhawat Ladkhani,Thimoli,Sikar.

    ReplyDelete
  17. Thakur Onarh Singh Shekhawat Ladkhani,Thikana Thimoli mob.9414540435 mail id: onarhsingh@gmail.com

    ReplyDelete
  18. Thikana Thimoli is also listed on website: indianrajputs.com
    Regards
    Th. Onarh Singh Shekhawat Ladkhani
    Thikana Thimoli Sikar

    ReplyDelete
  19. DILIP SINGH SHEKHAWAT
    THIKANA.. -DADIYA RAMPURA
    DIS SIKAR RAJASTHAN

    ReplyDelete